कोलोरेक्टल कैंसर (Colorectal Cancer) – प्रकार, लक्षण, रोकथाम के उपाय

colorectal-cancer

कोलोरेक्टल कैंसर (Colorectal Cancer) क्या है?

Colorectal Cancer एक गंभीर बीमारी हैं। आंत का कैंसर (Colon Cancer) और मलाशय कैंसर (Rectal Cancer) एक साथ हो सकते हैं, इसे “कोलोरेक्टल कैंसर” कहा जाता है। मलाशय कैंसर मलाशय में उत्पन्न होता है, जो गुदा के निकटतम बड़ी आंत का हिस्सा होता है। विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) और अमेरिका के सीडीसी (CDC) का कहना है कि फेफड़ों के कैंसर के बाद दुनिया भर में होने वाला यह दूसरा सबसे आम कैंसर है।
कोलोरेक्टल कैंसर के अधिकतर मामले अडेनोमाटोस पॉलिप्स (Adenomatous Polyps) नामक कोशिकाओं के छोटे, कैंसर मुक्त गुच्छों के रूप में शुरू होते हैं। समय के साथ इनमें से कुछ पॉलिप्स कोलोरेक्टल कैंसर बन जाते हैं। पॉलिप्स अक्सर छोटे होते हैं, और उनके होने के लक्षण दिखाई नहीं देते हैं। इसलिए डॉक्टर नियमित रूप से स्क्रीनिंग टेस्ट कराने का सुझाव देते हैं। ये टेस्ट कोलन कैंसर बनने से पहले पॉलिप्स की पहचान कर लेते हैं और कोलोरेक्टल कैंसर को रोकने में मदद करते हैं।

कोलोरेक्टल कैंसर के प्रकार (Types of Colorectal Cancer)

types of colorectal-cancer

कोलोरेक्टल कैंसर के दो प्रकार हैं-

1) बृहदान्त्र कैंसर (Colon Cancer): बड़ी आंत – जो आपके पाचन तंत्र का निचला हिस्सा होता है – का कैंसर है। 2) मलाशय कैंसर (Rectal Cancer): बृहदान्त्र के कई इंच लम्बे अंतिम सिरे का कैंसर है।
इन दोनों को अक्सर “कोलोरेक्टल कैंसर” कहा जाता है।

कोलोरेक्टल कैंसर के लक्षण (Symptoms Of Colorectal Cancer)

Symptoms-of-Colon-Cancer

कोलोरेक्टल कैंसर,खासकर प्रारंभिक अवस्था में किसी विशेष लक्षण को प्रकट नहीं करता है। यदि आप लक्षणों का अनुभव करते हैं, तो इनमें शामिल हो सकते हैं –

1) बार बार शौचालय जाना।
2) मल में रक्त आना।
3) पेट में दर्द, पेट फूला हुआ महसूस होना।
4) उल्टी
5) थकावट
6) अत्यधिक वजन घटना।
7) आपके पेट में या पिछले हिस्से में एक गांठ महसूस करना।
8) पुरुषों में या रजोनिवृत्ति के बाद महिलाओं में आयरन की अत्यधिक कमी होना।

कोलोरेक्टल कैंसर की रोकथाम

Prevention of Colorectal Cancer

हम कोलोरेक्टल कैंसर के विकास की संभावना कम करने के लिए बहुत कुछ कर सकते हैं –

1) नियमित जांच – विशेष रूप से यदि आपको पहले कोलोरेक्टल कैंसर रह चुका है, आपकी उम्र 60 वर्ष से अधिक है, इस प्रकार के कैंसर का एक पारिवारिक इतिहास है, आप क्रोहन रोग से पीड़ित हैं। कुछ विशेषज्ञों का कहना है कि 50 वर्ष की आयु के बाद जांच कराना शुरू कर देना चाहिए।

2) पोषण – सुनिश्चित करें कि आपके आहार में भरपूर फाइबर, फल, सब्जियां और अच्छी गुणवत्ता वाले कार्बोहाइड्रेट हों। लाल मांस और संसाधित (processed) मांस के सेवन को सीमित कर दें या बंद कर दें। संतृप्त वसा के स्थान पर अच्छी गुणवत्ता वाले वसा, जैसे कि एवोकाडो, जैतून का तेल, मछली के तेल और मेवे का सेवन करें।

3)व्यायाम – नियमित रूप से व्यायाम करें। प्रतिदिन थोड़ा-थोड़ा व्यायाम करने से कोलोरेक्टल कैंसर के विकास का खतरा कम किया जा सकता है।

4) शरीर का वज़न – अपने शरीर के वज़न को संतुलित बनाए रखें। अधिक वजन बढ़ने से या मोटापे के कारण व्यक्ति में कोलोरेक्टल कैंसर सहित अन्य कैंसर विकसित करने का जोखिम बढ़ जाता है।

जब आप एक स्वस्थ आहार, पर्याप्त व्यायाम एवं नींद का ख्याल रख रहे है, तो आप जानते हैं कि आप इस बीमारी से लड़ने के लिए अपना सब कुछ कर रहे हैं।

पवतान् (Pavtan) आरोग्य आहार कैंसर रोगियों के लिए आयुर्वेद के साथ-साथ अन्य आधुनिक चिकित्सा पद्धतियों द्वारा किए गये अनुसंधानो के आधार पर हजारों रोगियों एवं वर्षों के अनुसंधान के बाद बनाया गया पूर्ण वैज्ञानिक आहार है ,जो दवाओं के साथ मिलकर शरीर की स्वाभाविक प्रतिरक्षा प्रणाली को विकसित करके कैंसर को जड़ से समाप्त करने का महत्वपूर्ण कार्य करता है|

2 Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *